विशेष:अन्नदान का महापर्व है छेरछेरा

  10/01/2020



 छेरछेरा पुन्नी अन्नदान का महापर्व है। यह छत्तीसगढ़ का महत्वपूर्ण लोक पर्व है। छेरछेरा पुन्नी का पौराणिक महत्व है। मान्यता है कि पौष पूर्णिमा पर अनाज दान करने से दरिद्रता दूर होती है और अनाज का भण्डार हमेशा भरा रहता है। मान्यता के अनुसार पौष महीने की पूर्णिमा पर अनाज दान करने से धन और वैभव भी बढ़ता है। किसान इस दिन सुबह अन्नपूर्णा देवी की पूजा- अर्चना कर नये अनाज से बने पकवानों का भोग लगाते हैं और सुख-समृद्धि की कामना करते हैं। 


छत्तीसगढ़ में पौष महीने की पूर्णिमा तिथि को प्रति वर्ष छेरछेरा का त्यौहार खुशी से मनाया जाता है। छेरछेरा पुन्नी के दिन युवक-युवतियां लोगों के घरों में जाकर छेर छेरा - माई कोठी के धान ल हेर हेरा की आवाज लगाते हैं। इन युवक-युवतियों को अवाज लगाने पर उन्हें टोकरी या सुपा में धान दिया जाता है। छत्तीसगढ़ में छेरछेरा पुन्नी के दिन डंडा नांच मड़ई आदि का भी आयोजन किया जाता है। छत्तीसगढ़ में छेरछेरा पुन्नी के दिन दिया गया धान का दान समाज को सम्पन्न बनाता है। जहां एक ओर दान देने वाला खुशी से धान का दान करता है। वही लेने वाला भी प्रसन्न होता है। छत्तीसगढ़ के प्रत्येक गांववासी और किसान अतिथि सत्कार के साथ-साथ अपनी कमाई का अंश दान देने में पीछे नहीं रहते हैं। गांव के लोग मंदिरों, धार्मिक स्थलों में चावल चढ़ाते हैं। इसके पीछे भी दान की भावना निहित है। समाज के कोई भी वर्ग भूखा ना रहे यही भावना के साथ छेरछेरा पुन्नी त्यौहार मनाया जाता है। छत्तीसगढ़ में छेरछेरा पुन्नी के दिन बच्चे और युवक-युवतियां टोली बनाकर डंडा नृत्य और महिलाएं सुवा नृत्य करती हैं।













विज्ञापन
Facebook
वीडियो
आपका वोट
क्या भूपेश सरकार का १५ अगस्त तक का सफर उपलब्यियों भरा रहा ? क्या है आपकी राय ?
विज्ञापन
आपकी राय

संपर्क करे

अगर आप कोई सूचना, लेख , ऑडियो वीडियो या सुझाव हम तक पहुचाना चाहते है तो इस ई-मेल आई पर भेजे [email protected] या फिर Whatsapp करे 7771900010



  
विज्ञापन