टेलीकाॅम सेक्टर में अब तक का सबसे बड़ा घाटा

  15/11/2019


नई दिल्ली। मंदी की अफवाहों के बीच टेलीकाॅम सेक्टर सबसे बुरे दौर से गुजर रहा है। तीसरी तिमाही में टेलीकाॅम कंपनी वोडाफोन-आइडिया और एयरटेल को तगड़ा झटका लगा है। कंपनियों का कहना है कि समायोजित सकल राजस्व (एजीआर) के कारण बड़ा घाटा उठाना पड़ रहा है। ऐसे में कंपनियों ने कहा कि यदि सरकार से जल्द राहत नहीं मिली तो बर्बाद हो जाएंगे। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक वोडाफोन आइडिया को दूसरी तिमाही में 50,921 करोड़ रुपए का बड़ा घाटा हुआ है, जबकि पिछले साल इसी अवधि दूसरी तिमाही में कंपनी को 4,947 करोड़ रुपए का घाटा हुआ था। भारत के कॉर्पोरेट इतिहास में वोडाफोन-आइडिया के सबसे बड़ा तिमाही घाटा बताया जा रहा है। इससे पहले टाटा मोटर्स को दिसंबर, 2018 में समाप्त तिमाही के दौरान 26,961 करोड़ रुपए का घाटा हुआ था।

गुरुवार को जारी नतीजों के मुताबिक एयरटेल को जुलाई-सितंबर, 2019 तिमाही में 23,045 करोड़ रुपए का बड़ा घाटा हुआ है। वहीं पिछले साल की दूसरी तिमाही में कंपनी को 119 करोड़ रुपए का मुनाफा हुआ था। यरटेल का भी कहना है कि ।ळत् की वजह से उसे इस तिमाही में तेज झटका लगा है। कंपनी ने कहा कि यदि सरकार की तरफ से कोई राहत नहीं मिलती है तो भारती एयरटेल को तिमाही के लिए कुल 28,450 करोड़ रुपए चुकाने पड़ेंगे।

कंपनी का कहना है कि यदि एजीआर के कारण ऐसा ही चलता रहा तो बर्बाद हो जाएंगे। आदित्य बिड़ला समूह का कहना है कि अगर सरकार एजीआर को लेकर 39,000 करोड़ रुपए से ज्यादा की देनदारी पर बड़ी राहत नहीं देती, तो वह कंपनी में और निवेश नहीं करेगी। तिमाही रिपोर्ट में घाटे के बाद गुरुवार को वोडाफोन आइडिया का शेयर भी तेजी से लुढ़क गया, दिनभर कारोबार के बाद यह 18.92 फीसदी यानी 0.30 अंक की गिरावट के बाद तीन रुपये के स्तर पर बंद हुआ। इतना ही नहीं, इस तिमाही एयरटेल को भी झटका लगा है।













विज्ञापन
Facebook
वीडियो
आपका वोट
क्या भूपेश सरकार का १५ अगस्त तक का सफर उपलब्यियों भरा रहा ? क्या है आपकी राय ?
विज्ञापन
आपकी राय

संपर्क करे

अगर आप कोई सूचना, लेख , ऑडियो वीडियो या सुझाव हम तक पहुचाना चाहते है तो इस ई-मेल आई पर भेजे info@ekhabri.com या फिर Whatsapp करे 7771900010



  
विज्ञापन