हाईकोर्ट ने दिया निर्देश, पंचायत चुनाव पुरानी अधिसूचना से कराए सरकार

  29/11/2019


पंचायत के परिसीमन को लेकर राज्य शासन के खिलाफ दायर याचिका को हाईकोर्ट ने स्वीकार करते हुए राज्य शासन की अधिसूचना को निरस्त कर दिया है। साथ ही चुनाव कराने के बारे में निदेंश दिया है कि अगर चुनाव कराना है तो पुरानी अधिसूचना से ही कराएं। 

मामले की सुनवाई जस्टिस पी. सैम कोशी की एकलपीठ में हुई। बेमेतरा के नवागांव निवासी प्रेमचंद्र साहू ने हाईकोर्ट में याचिका दायर कर राज्य सरकार द्वारा सितंबर और अक्टूबर में जारी अधिसूचना को चुनौती दी। इसमें तर्क दिया कि नवागांव, करंजिया व बीरमपुर को मिलाकर ग्राम पंचायत बनाया जाना था। इसका मुख्यालय नवागांव में रखना था। लेकिन अंतिम अधिसूचना में नवागांव व मुलमुला को मिलाकर ग्राम पंचायत बना दिया। आबादी दोनों ग्रामों को मिलाकर आबादी 3 हजार है। जबकि दिशा निर्देश के मुताबिक 1 हजार आबादी पर एक ग्राम पंचायत बनानी थी। 

एक गांव की आबादी 704 होने पर भी उसको ग्राम पंचायत बना दिया गया। जहां नवागांव की आबादी 1 हजार थी। इसके बाद भी ग्राम को ग्राम पंचायत नहीं बनाया गया। उसके साथ दो हजार आबादी वाले मुलमुला गांव को और जोड़ दिया गया है।

इसके अलावा नवागांव को मुख्यालय न बनाकर मुलमुला का आश्रित ग्राम बना दिया गया। इसी प्रकार की और 10 ग्राम पंचायतों के रहने वाले लोगों ने अलग-अलग याचिकाएं प्रस्तुत की। इसमें सुनवाई का मौका नहीं दिए जाने का भी हवाला दिया गया। शासन की तरफ से कहा गया कि आपत्ति नहीं होने से यह अधिसूचना जारी की गई है।













विज्ञापन
Facebook
वीडियो
आपका वोट
क्या भूपेश सरकार का १५ अगस्त तक का सफर उपलब्यियों भरा रहा ? क्या है आपकी राय ?
विज्ञापन
आपकी राय

संपर्क करे

अगर आप कोई सूचना, लेख , ऑडियो वीडियो या सुझाव हम तक पहुचाना चाहते है तो इस ई-मेल आई पर भेजे info@ekhabri.com या फिर Whatsapp करे 7771900010



  
विज्ञापन