सरकार भारी वाहनों की ट्रेनिंग देकर देगी रोजगार

  10/06/2019


प्रदेश में बढते सड़क हादसे को देखते हुए परिवहन विभाग ने नया तरीका निकाला है। विभाग कमर्शियल वाहन चालकों को ट्रेनिंग देगी। ट्रेनिंग पूरी होने के बाद इन को प्रदेश में संचालित विभिन्ना कंपनियों में नौकरी भी दिलवाएगा। इससे एक तरफ जहां वाहन चालकों को आसानी से नौकरी मिलेगी,  वहीं यातायात के नियमों की जानकारी होने से हादसे पर भी लगाम लगेगी।

नया रायपुर स्थित तेंदुआ गांव के फेस टू में 20 एकड़ में 17 करोड़ की लागत से अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस मोटर ट्रेनिंग स्कूल का निर्माण किया जा रहा है। परिवहन विभाग इसका निर्माण मारुति ऑटोमोबाइल कंपनी के साथ मिलकर कर रहा है। 90 प्रतिशत काम हो चुका है। इस साल के अंत तक इसे शुरू कर दिया जाएगा। यहां करीब 200 लोग एक साथ ट्रेनिंग ले सकेंगे।

मारुति कंपनी के विशेषज्ञ चालकों को प्रशिक्षण देंगे। यहां प्रदेश के कोने-कोने से आकर ट्रेनिंग ले सकेंगे,  क्योंकि यहां हॉस्टल का भी निर्माण किया जा रहा है। हॉस्टल में रहने-खाने की पूरी व्यवस्था रहेगी। एलईडी के माध्यम से क्लास लेकर यातायात नियम की जानकारी दी जाएगी।

आरटीओ अधिकारी ने बताया कि यहां बस,  ट्रक जैसे बड़े कमर्शियल वाहनों को चलाने के लिए 90 दिन की ट्रेनिंग दी जाएगी। नॉन कमर्शियल वाहनों को चलाने के लिए 21 दिन की ट्रेनिंग दी जाएगी। शिक्षणार्थियों के लिए 80 कमरों का हॉस्टल बनाया जा रहा है। दूर-दराज से आने वाले अभ्यर्थी यहां रहकर ट्रेनिंग लेंगे। ट्रेनिंग देने के लिए आरटीओ और मारुति कंपनी के पांच-पांच कर्मचारी तैनात रहेंगे। ट्रेनिंग के बाद अभ्यर्थियों को ट्रैक पर चलाने के लिए गाड़ी मुहैया कराई जाएगी। आठ आकृति वाले ट्रैक, रिवर्स पार्किंग, पैनल पार्किंग, लेन चेंजिंग्स का प्रशिक्षण दिया जाएगा।

वर्तमान में लाइसेंस के लिए आवेदन करने वालों को पंडरी और आरटीओ कार्यालय में ड्राइविंग टेस्ट देना होता है। इसके लिए काफी जद्दोजहद करनी होती है। घंटों लाइन में भी लगना पड़ता है। दूसरी ओर टेस्ट की प्रक्रिया पर अक्सर सवाल उठते रहते हैं। नया ट्रेनिंग स्कूल में टेस्ट के लिए काफी जगह मिलेगी। ट्रेनिंग सर्टिफिकेट लेने के बाद लाइसेंस के लिए आवेदन करने पर टेस्ट नहीं देना पड़ेगा। विभाग उनको तुरंत लाइसेंस जारी करेगा।

संयुक्त परिवहन आयुक्त छत्तीसगढ़ डी. रविशंकर ने कहा कि नया रायपुर में बन रहे अत्याधुनिक मोटर ट्रेनिंग स्कूल में कमर्शियल वाहन की ट्रेनिंग लेने वालों को प्रदेश में संचालित कंपनियों में प्लेसमेंट के माध्यम से रोजगार मुहैया कराने का निर्णय लिया गया है।













विज्ञापन
Facebook
वीडियो
आपका वोट
क्या भूपेश सरकार का १५ अगस्त तक का सफर उपलब्यियों भरा रहा ? क्या है आपकी राय ?
विज्ञापन
आपकी राय

संपर्क करे

अगर आप कोई सूचना, लेख , ऑडियो वीडियो या सुझाव हम तक पहुचाना चाहते है तो इस ई-मेल आई पर भेजे info@ekhabri.com या फिर Whatsapp करे 7771900010



  
विज्ञापन